जनपदवार खबरें पढ़े

अनुदेशक अमरोहा अमेठी अम्बेडकरनगर अयोध्या अलीगढ़ अवकाश आगरा आजमगढ़ आदेश इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जनपदवार खबरें जालौन जिलाधिकारी जूनियर शिक्षक संघ जौनपुर झाँसी देवरिया पीलीभीत प्रतापगढ़ प्रदर्शन प्रयागराज प्राथमिक शिक्षक संघ फतेहपुर फर्जीवाड़ा फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बांदा बागपत बाराबंकी बिजनौर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहांपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर समाचार सम्भल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
"BSN" प्राइमरी का मास्टर । Primary Ka Master. Blogger द्वारा संचालित.

LEVEL WISE POST SEARCH

BSN - प्राइमरी का मास्टर के U-YouTube Channel पर जाने के लिए नीचे लोगो पर क्लिक करें

BSN - प्राइमरी का मास्टर के U-YouTube Channel पर जाने के लिए नीचे लोगो पर क्लिक करें
BSN - प्राइमरी का मास्टर के यू-ट्यूब चैनल पर जाने के लिए उपरोक्त लोगो पर क्लिक करें ।
Header Ads

सुविचार

उठो, जागो और तब तक मत रुको जब तक लक्ष्य की प्राप्ति न हो जाए ।
Arise, awake and Stop not till the Goal is Reached.

बस्ती : कोरोना वारियर्स के गैर वित्तीय मांगो पर निर्णय करे सरकार: अतुल मिश्रा, राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के प्रदेश महामंत्री ने सरकार समक्ष रखी मांग

0 comments
बस्ती : कोरोना वारियर्स के गैर वित्तीय मांगो पर निर्णय करे सरकार: अतुल मिश्रा, राज्य कर्मचारी संयुक्त परिषद के प्रदेश महामंत्री ने सरकार समक्ष रखी मांग

बस्ती।प्रदेश के राज्य कर्मचारियों विशेष तौर पर जान की परवाह किए बगैर कार्य करने वाले कोरोना योद्धाओं की उन सभी मांगों पर विचार कर तत्काल निर्णय किए जाने का अनुरोध किया है जिसमें सरकार को कोई वित्तीय नुकसान की संभावना नहीं है।बस्ती में पत्रकारों से बातचीत करते हुए परिषद के महामंत्री अतुल मिश्रा ने बताया कि उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव, अपर मुख्य सचिव कार्मिक, अपर मुख्य सचिव वित्त के साथ कई बैठकें हो चुकी हैं, जिसमें चिकित्सा स्वास्थ्य विभाग के कई संवर्गो की जायज मांगों पर तत्काल निर्णय लिए जाने का लिखित आश्वासन दिया गया था। वर्तमान समय में जबकि सभी कर्मचारी कोरोना से लड़ रहे हैं, इस संक्रमण से जनता को बचा रहे हैं तथा संक्रमित जनता को बिना डरे- बिना अपनी जान की परवाह किए उपचार प्रदान कर रहे हैं, इसलिए इन संवर्गो की सभी मांगों पर कारवाई किया किया जाना न्यायोचित है। सरकार को प्राथमिक तौर पर उन सभी मांगों पर तत्काल निर्णय कर शासनादेश निर्गत कर देने चाहिए जिनमें सरकार को सीधे कोई वित्तीय हानि नही पहुचती है। उन्होंने बताया कि प्रदेश के चिकित्सालयो में नर्सेज, फार्मेसिस्ट, लैब टेक्नीशियन, ऑप्टोमेट्रिस्ट, फिजियोथेरेपिस्ट, बेसिक हेल्थ वर्कर (महिला/पुरूष) सहित विभिन्न कर्मी प्रथम पंक्ति में आकर जनता की सेवा कर रहे हैं। नर्सेज संवर्ग की मांग पर शासन स्तर पर कई बार समझौता किया गया है, आश्वासन के बावजूद शासनादेश निर्गत नहीं हो रहे हैं नर्सेज संवर्ग ने केंद्र के समान पदनाम दिए जाने की मांग की है उन्होंने कहा कि पदनाम परिवर्तन से सरकार पर कोई वित्तीय क्षति नहीं पहुंचेगी। केंद्र में नर्सेज संवर्ग का पदनाम परिवर्तित कर दिया गया है लेकिन समझौते के बावजूद प्रदेश में नाम परिवर्तन नहीं हो सका वही फार्मेसिस्ट लैब टेक्नीशियन और ऑप्टोमेट्रिस्ट संवर्ग की वेतन विसंगति का प्रकरण वेतन समिति द्वारा संस्तुति कर रिपोर्ट सरकार को केंद्र सरकार के अनुसार करने हेतु दी गई है। उन्होंने कहा कि फार्मेसिस्ट संवर्ग में लगभग सभी फार्मेसिस्ट पूर्व से ही ऐसे वेतनमान में पहुंच चुके हैं जहां प्राथमिक वेतनमान परिवर्तन होने से सरकार पर वित्तीय भार नहीं आएगा। यही स्थिति लैब टेक्नीशियन एवं ऑप्टोमेट्रिस्ट की भी है सरकार शासन द्वारा पूर्व में इस पर सहमति व्यक्त की गई थी एक समान अवधि के डिप्लोमा होल्डर्स का वेतन एक समान रखा जाएगा, वेतन समिति भी इस पर राजी थी, लेकिन अभी तक शासन द्वारा निर्णय कर शासनादेश निर्गत नहीं किया गया।वहीं चिकित्सा स्वास्थ्य विभाग में कार्यरत इलेक्ट्रीशियन कम जनरेटर ऑपरेटर के प्रत्येक जिला व बड़े अस्पतालों में 1 पद हैं जहां 24 घंटे उन्हें कार्य करना होता है। कार्मिकों को  एकल पद होने के कारण छुट्टियां नहीं मिल पाती, इसलिए शासन से अनुरोध किया गया था उक्त पदों को बढ़ाते हुए भर्तियां की जाएं व वेतन समिति के अनुसार उच्चीकृत किया जाए।विभिन्न संभागों में पदोन्नति के पद रिक्त पड़े हुए हैं फार्मेसिस्ट संवर्ग में विशेष कार्य अधिकारी और संयुक्त निदेशक फार्मेसी के पद कई वर्षों से प्रोन्नत कर नहीं भरे गए वहीं अन्य संवर्गो में भी प्रोन्नतिया नहीं हो पा रही जिससे कर्मचारी अपने मूल पद से सेवानिवृत्त हो जा रहे है। विभिन्न संवर्गो के पदों के मानक निर्धारित ना होने से नए चिकित्सालय बनने पर आवश्यक पद सृजित नहीं हो पाते जिससे चिकित्सालयों के संचालन में बहुत समस्याएं आती हैं।बेसिक हेल्थ वर्कर्स एसोसिएशन की मांग कई बार वार्ताओं और समझौतों के बावजूद लंबित बनी हुई है एक ही पद पर कर्मचारियों के वेतन में भिन्नता है वही मूल पद एवं पदोन्नत के पदों का वेतन एक समान हो गया है जो नितांत उचित प्रतीत नहीं होता।एक्स-रे टेक्निशियन का पदनाम भारत सरकार द्वारा परिवर्तित कर दिया गया है । वार्ता के बावजूद उत्तर प्रदेश में अभी तक परिवर्तन नहीं हो सका। नान मेडिकल असिस्टेंट के वेतन विसंगति को केंद्र सरकार की भाति दूर किया गया था लेकिन केंद्रीय समानता के सिद्धांत को नहीं अपनाया गया जिससे कर्मचारियों का बहुत नुकसान हुआ है। परिषद के उपाध्यक्ष सुनील यादव का  कहना है कि पदों का सृजन मानक निर्धारण आदि ऐसी समस्याएं हैं, जिससे सभी संवर्ग प्रभावित हो रहे हैं साथ ही जनता भी प्रभावित होती है क्योंकि मानव संसाधन की कमी से जन सेवा में बाधा पड़ती है।
उन्होंने बताया कि कर्नाटक, हरियाणा, पंजाब , महाराष्ट्र में फार्मेसिस्ट का पदनाम  फार्मेसी अधिकारी, चीफ फार्मेसिस्ट को बदलकर चीफ फार्मेसी अधिकारी किया जा चुका है, इस क्रम में उत्तर प्रदेश के फार्मेसिस्ट संवर्ग के पदनाम परिवर्तन की मांग की गई है । प्रदेश के सैकड़ो जनप्रतिनिधियों ने भी पदनाम परिवर्तन हेतु अपनी संस्तुति भेजी है, उक्त सभी संवर्गों के पदनाम परिवर्तन से सरकार को कोई वित्तीय भार नही आना है , बल्कि यह कोरोना योद्धाओं के लिए एक उपहार साबित होगा ।परिषद के अध्यक्ष सुरेश रावत व महामंत्री अतुल मिश्रा ने प्रदेश के माननीय मुख्यमंत्री जी और मुख्य सचिव से मांग की है कि पूर्व में हुए समझौतों के अनुसार सभी संवर्गो की मांगों पर तत्काल कार्रवाई करते हुए निर्णय कर शासनादेश निर्गत कराएं जिससे सरकार और कर्मचारियों में आपसी सौहार्द बना रहे।

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें