जनपदवार खबरें पढ़े

अनुदेशक अमरोहा अमेठी अम्बेडकरनगर अयोध्या अलीगढ़ अवकाश आगरा आजमगढ़ आदेश इटावा इलाहाबाद उन्नाव एटा औरैया कन्नौज कानपुर कानपुर देहात कानपुर नगर कासगंज कुशीनगर कौशाम्बी गाजियाबाद गाजीपुर गोण्डा गोरखपुर गौतमबुद्धनगर चन्दौली चित्रकूट जनपदवार खबरें जालौन जिलाधिकारी जूनियर शिक्षक संघ जौनपुर झाँसी देवरिया पीलीभीत प्रतापगढ़ प्रदर्शन प्रयागराज प्राथमिक शिक्षक संघ फतेहपुर फर्जीवाड़ा फर्रुखाबाद फिरोजाबाद फैजाबाद बदायूं बरेली बलरामपुर बलिया बस्ती बहराइच बांदा बागपत बाराबंकी बिजनौर बुलन्दशहर भदोही मऊ मथुरा महराजगंज महोबा मिर्जापुर मुजफ्फरनगर मुरादाबाद मेरठ मैनपुरी रामपुर रायबरेली लखनऊ लखीमपुर खीरी ललितपुर वाराणसी शामली शाहजहांपुर श्रावस्ती संतकबीरनगर समाचार सम्भल सहारनपुर सिद्धार्थनगर सीतापुर सुल्तानपुर सोनभद्र हमीरपुर हरदोई हाथरस हापुड़
"BSN" प्राइमरी का मास्टर । Primary Ka Master. Blogger द्वारा संचालित.

LEVEL WISE POST SEARCH

BSN - प्राइमरी का मास्टर के U-YouTube Channel पर जाने के लिए नीचे लोगो पर क्लिक करें

BSN - प्राइमरी का मास्टर के U-YouTube Channel पर जाने के लिए नीचे लोगो पर क्लिक करें
BSN - प्राइमरी का मास्टर के यू-ट्यूब चैनल पर जाने के लिए उपरोक्त लोगो पर क्लिक करें ।
Header Ads

सुविचार

उठो, जागो और तब तक मत रुको जब तक लक्ष्य की प्राप्ति न हो जाए ।
Arise, awake and Stop not till the Goal is Reached.

महराजगंज : दयानन्द त्रिपाठी व्याकुल को उनकी रचना पानी बिकने लगा हंसी हो हवा बिके परिहास के लिए मिला इंडियन आर्टिस्ट अवार्ड 2021 क्लिक कर देखें

0 comments
महराजगंज : दयानन्द त्रिपाठी व्याकुल को उनकी रचना पानी बिकने लगा हंसी हो हवा बिके परिहास के लिए मिला इंडियन आर्टिस्ट अवार्ड 2021 क्लिक कर देखें


सागर_कला_भवन_फैजाबाद_अयोध्या (संस्कृति भारती) की पूरी टीम को मुझ अकिंचन को INDIAN_ARTIST_AWARD_2021 से सम्मानित करने के लिए सहृदय आभार नमन वन्दन करते हुए ढेर सारी शुभकामनाएं संप्रेषित किया - पूरी रचना देखें👇👇
पानी बिकने लगा हंसी हो हवा बिके परिहास,
नहीं होश है मानव संकट में हार रहा इतिहास।

आसूं औ दहशत का आलम हर नयनों में उभर रही,
जानें कितने आशाओं पर बज्र पात सी मचल रही।
ऐ मरने वालों सुनों गुज़ारिश वोट डालते जाओ तुम,
निष्ठुर  समय  बता  रहा  है  मृत्यु  द्वारे  सजल  रही।
राजनीति का चाबुक ऐसा अटक रही हैं सांसें अब,
जीत रही सियासत देखो हारी ले मानवता उपहास।
पानी बिकने लगा हंसी हो हवा बिके परिहास,
नहीं होश है मानव संकट में हार रहा इतिहास।

सांसों का संकट है फैला कभी यहां और कभी वहां,
सभी दलों के नेता सारे एक्जिट पोल पर लड़े जहां।
कहीं बिलखता बचपन है तो कहीं जवानी डूब गयी,
देखो सारे श्रवण तुम्हारे घातक बाणों से मरे जहां।
कटुता-कपट-कुसंगत तेरे पर उपदेश कुशल बहुतेरे,
सब कालखण्ड में अंकित होंगें ले स्वर्णिम इतिहास।
पानी बिकने लगा हंसी हो हवा बिके परिहास,
नहीं होश है मानव संकट में हार रहा इतिहास।

जब भी रावण खड़ा सामने दिख जाये लो चेत,
संहारक हैं कृष्ण धरा की करें श्रीराम सा हेत।
उत्तर-दक्षिण, पूरब-पश्चिम  हाहाकार  चहुंओर,
लेकिन तृष्णा नहीं गयी है हैं गज़ब चरित्र के प्रेत।
इस समर का पहर बहुत है बाकी करनी है गणना,
ताप-तपित धरती है व्याकुल स्वार्थ लोभ बनवास
पानी बिकने लगा हंसी हो हवा बिके परिहास,
नहीं होश है मानव संकट में हार रहा इतिहास।

सुविधा है अनगिनत जहां में फिर भी संकट है गहरा,
सुख के सब सामान जुटाके देते है मरघट में पहरा।
हर प्राणी है सहमा-सहमा मृत्यु का आभास लिए,
सदा सत्य है मृत्यु लेकिन फिर भी जीवन है गहरा।
नैतिकता के रखवाले सारे सच्चे साधक चले गये,
सम्प्रभुता पाने की खातिर कर डाले बकवास।
पानी बिकने लगा हंसी हो हवा बिके परिहास,
नहीं होश है मानव संकट में हार रहा इतिहास।
          © दयानन्द त्रिपाठी व्याकुल

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें